Breaking News

चाची-भतीजा crime story in hindi

चाची-भतीजा crime story in hindi



चाची-भतीजा crime story in hindi यह कहानी चाची और भतीजे के अवैध संबंधों पर आधारित है इस कहानी में आप जानेंगे कि कैसे चाची और भतीजे ने मिलकर अपने अवैध संबंधों के चलते अपने परिवार की जान ले ली!!

इस कहानी का मकसद आप को डराना नहीं बल्कि  आपको क्राइम से रूबरू कराना है!
Crime story in hindi

चाची-भतीजा crime story in hindi

एक शहर में रामप्रसाद नाम का एक आदमी रहता था उम्र में बड़ा था पर उसकी पत्नी स्नेहा काफी खूबसूरत थी और उम्र में छोटी थू जवान थी । 
उनके बच्चे नही थे वे लोग शहर में रहते थे स्नेहा जवान थी सूंदर थीं ओर रामप्रसाद थोड़ा बुगुर्ग था  इसी लिये स्नेहा रामप्रसाद से खुश नही थी । और वो बस उसकी सम्पति के लालच में रामप्रसाद के साथ थी ।


एक दिन गावँ से रामप्रसाद का भतीजा शंकर आया । वो नोकरी की तलाश में आया था इसी लिए रामप्रसाद के  अपने चाचा के साथ ही शहर में रहता था ।!

Crime petrol-crime  story in hindi


अब धीरे-धीरे शंकर और स्नेहा के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी वह दोनों बहुत खूब मिल गए एक दिन राम प्रसाद को शहर से बाहर काम से जाना पड़ा शंकर घर पर ही था तो शंकर ने इस मौके का फायदा उठाया और रात को स्नेहा के कमरे में घुस गया स्नेहा भी बहुत खुशी हुई
 और शंकर से बात करने लगी बात करते-करते वह बहुत घुलमिल गई और शंकर मैं उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना शुरू कर दिया जब सुबह हुई तो दोनों साथ ही थे शंकर भी खुश था और स्नेहा भी बहुत खुश थी ऐसे करते करते अब कई महीने बीत गए दोनों अवैध संबंध में रहने लगे एक दिन जब शंकर स्नेहा के साथ एक कमरे में था तो राम प्रसाद ने देख लिया वह आग बबूला हो गया उसने शंकर को पीटना शुरू कर दिया

 इसमें गुस्सा होकर शंकर ने रामप्रसाद को धक्का दिया और रामप्रसाद सीढ़ी से नीचे गिर गया जिससे उस पर चोट लग गई और रामप्रसाद कोमा में चला गया यह बात किसी को पता नहीं नहीं चली कि क्या हुआ होगा अब स्नेहा और शंकर रामप्रसाद के सामने ही अवैध संबंध बनाने लगे एक दिन जब डॉक्टर ने राम प्रसाद का चेकअप किया तो पता चला कि रामप्रसाद धीरे धीरे ठीक हो रहा है तो स्नेहा ने फिर से राम प्रसाद की दवाई बदलना शुरू कर दिया और राम प्रसाद की मौत हो गई.




जब गांव से सभी लोग आए तो पोस्टमार्टम की बात हुई पुलिस ने राम प्रसाद की बॉडी का पोस्टमार्टम दिया पोस्टमार्टम में पता लगाए की दवाइयां बदल के दी जाती थी जिनसे सारा शक स्नेहा पर गया अब पुलिस में स्नेहा को जेल में डाल दिया और टॉर्चर किया तब स्नेहा ने पूरा राज उगल दिया.
पुलिस को पता चल गया कि शंकर और स्नेहा दोनों अवैध संबंध में रहते थे पुलिस ने शंकर और स्नेहा दोनों को जेल में डाल दिया दुनिया को सजा हुई उनका पूरा परिवार बिखर गया!

निष्कर्ष crime petrol story in hindi

इस कहानी का मकसद आपको क्राइम से रूबरू कराना था अवैध संबंध बनाना एक संगीन जुर्म है स्नेहा ने अवैध संबंधों के चलते हैं अपने पति की जान ले ली जिससे उसे सजा हुई और शंकर नेभी रामप्रसाद को मारने की कोशिश की थी जिससे उसे भी सजा हुई हमें अवैध संबंध नहीं बनाने चाहिए अवैध संबंध बनाना या अवैध संबंधों में रहना कानूनी जुर्म है!

No comments