Breaking News

घर की लक्ष्मी बेटियों को पैदा होते ही मार डाला / crime pertol story

घर की लक्ष्मी बेटियों को पैदा होते ही मार डाला / crime pertol story 

यह घर की लक्ष्मी बेटियों को पैदा होते ही मार डाला / crime pertol story  में हम किसी प्रथा का समर्थन नही करते बल्कि हम ऐसे कार्यों की निंदा करते है । इस कहानी का मकशद आपको क्राइम से भलि भांति परिचित करना है । इस कहानी के द्वारा हमे क्राइम को रोकने की ओर से  खत्म करने की सीख मिलती है ।
Crime alert story in hindi


हमारे समाज मे हर जगह लड़कियों को एक निम्न दर्जा दिया  जाता है । जहां देख लो वहां पर लड़कियों को छोटा आंका जाता है । हालांकि वर्तमान में स्थिति बदल गई है परंतु कई गाँव मे अभी भी लड़कियों को लेकर वो ही मानसिकता है । और इसे  खत्म करना  जरूरी है ।
हमारे देश के कई गांवों में आज भी लड़के को शुभ और लड़की को अशुभ माना जाता है ।
ओर उन्हें पैदा होते ही मौत के घाट उतारा जाता है ।
कई जगह तो महिलाओं की स्थिति इतनी  खराब हो चुकी है कि वहां छोटी मोटी दुर्घटना का जिमेदार भी महिलाओं की ही माना जाता है ।
ऐसी ही एक कहानी में आपको बताने जा रहा हूं । जिसमे लड़के को शुभ माना जाता है और लड़की को अशुभ ।

Crime alert story in hindi

एक गांव में एक जमीदार रहता था उस जमीदार का एक बेटा था राकेश ।
 जमीदार लड़कियों को अशुभ और लड़कों को शुभ मानता था इसी कारण उसने अपनी कोई बेटी पैदा ना होने दी वह अपनी पत्नी के साथ भी बहुत बुरा सलूक करता था जब देखो उसे ताने मारता रुलाता जमीदार के बेटे की शादी हो गई जमीदार की बहू मनीषा काफी अकल मंद बुद्धिमान पढ़ी लिखी हुई और काफी सुंदर भी थी ।
अब जमीदार के दिमाग पर घूम रहा था कि बस एक वंश चलाने के लिए वारिस मिल जाए तो कुछ भला हो बस यह जिद लेकर वह अपनी बहू को रोज कहता है कि मुझे बेटा चाहिए बारिश चाहिए अपने बेटे को भी रोज कहता था कि बेटा ही होना चाहिए शादी को 1 साल बीत गया बहु पेट से थी जमीदार रोज पंडितों को बुलाता ज्योतिषियों को बुलाता और पूछता कि मेरा वारिस पैदा होने वाला है लड़का होगा या लड़की सभी ज्योतिष कह देते कि लड़का होगा लड़का होगा ऐसे में जिम्मेदार बहुत खुश हो जाता और उनको भेज देता आखिरकार वह दिन आ गया जब बच्चा पैदा होने वाला था जमीदार यह सोच सोच कर परेशान था कि लड़का होगा या लड़की ।

https://www.prolifestyles.club/2019/06/crime-alert-who-is-criminal.html
तब हॉस्पिटल से खबर आई कि बहु को बेटी हुई है जमीदार आग बबूला हो गया और तुरंत हॉस्पिटल पहुंचा और बोला कि हमें यह बेटी नहीं चाहिए हमें तो बेटा चाहिए इसको यही छोड़ दो या मार दो बेटी पैदा होगी तो हम पर आर्थिक संपति आ सकती है इसीलिए हम और हमारे वंश में किसी ने बेटी पैदा नहीं की परंतु अब यह पैदा हुई है तो कुछ अनर्थ अवश्य होगा । मनीषा ने जब यह बात सुनी तो वह अपने ससुर की दकियानूसी सोच देख कर बहुत ही चिंतित हो गई और उसे डर सताने लगा कि मेरा मेरा पति और मेरे ससुर मेरी बेटी को मार डालेंगे यह सोचकर मनीषा बहुत परेशान थी और अपनी बेटी को छुपा कर संभाल कर रखती थी ।
कुछ भी नहीं बीते थे कि जमीदार ने बेटी को मारने का प्लान बनाया और इसके कानो कान किसी को खबर भी न थी उसने दूध में स्लो पाइजन मिलाकर बेटी को खिला दिया यह बात अभी किसी को पता ना थी अब बेटी की तबीयत खराब हो गई उसे हॉस्पिटल ले जाया गया डॉक्टर ने जब इलाज किया तो पता चला कि बेटी को जहर दिया गया है जिससे उसके पेट की हालत खराब हो गई थी अब मनीषा समझ गई कि यह करा धरा सब मेरे ससुर जी का है वह और सावधान होने लगी ।

https://www.prolifestyles.club/2019/06/Crimealert-what-is-crime.html
पांच छः महीने बीत गए 1 दिन जमीदार जब काम से आ रहा था तो उसकी कार दुर्घटना में एक टांग टूट गई और घर आ गया वह सोचने लगा कि आज तक मैंने अपनी जिंदगी में कई बार कार चलाई है आज तक मेरी कभी कोई दुर्घटना नहीं हुई आज ही क्यों हुई ऐसा सोचकर वह और परेशान हो गया और सोचने लगा कि बेटी का असर होने लग गया है अब हम हम पर ऐसे संकट रोज आएंगे ।
जमीदार सीधे घर गया और उसने अपनी बहू को कहा तुम अपनी बेटी को मार रही हो या तू भी इसे लेके जा रही हो । मनीषा बोली पर बात की है तो जमीदार बोला आज तक मेरा कभी ऐसी दुर्घटना नही हुई फिर अब ही क्यो हुई ।
हमारे खानदान म3 कभी किसी की बेटी नही रही फिर अब कैसे तुम इसे मार दो और एक बेटा पैदा कर लो टब देखना  घर मे लक्षमी का वास होगा ।


Crime alert story in hindi

अब  मनीषा ने कहा घर की लक्ष्मी तो बेटी होती है उन्हें मार के कैसे घर का भला हो सकता है ।
जमीदार नही माना और उस लड़की को मारने के लिए अपने आदमी भेज दिए मनीषा अपनी बेटी को लेकर भाग गई । और पुलिस को फोन कर दिया । अब मनीषा भागकर पुलिस के पास पहुंच गई पुलिस में जमीदार के गुंडों को बहुत पीटा और जमीदार को अरेस्ट कर लिया जमीदार के बेटे राकेश को भी जेल हो गई क्योंकि उसने भी अपने पिताजी की मदद की थी अब जमीदार पर गांव में सभी बेटियों को पालने लगे गांव की गांवों की स्थिति कुछ हद तक बदल गई अब समय-समय पर पुलिस उस गांव में जाती है और देखती है कि कहीं कोई बालिका हत्या का समर्थन तो नहीं कर रहा है।

उम्मीद है कि आपको मेरी यह कहानी अच्छी लगी हो अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी हो तो शेयर अवश्य करें

हम बालिका हत्या को या भ्रूण हत्या को कैसे रोक सकते हैं अपने सुझाव कमेंट में अवश्य करें धन्यवाद
https://www.prolifestyles.club/2019/07/Bandook-dikha-kr-lootpaat-crimestory.html

https://www.prolifestyles.club/2019/07/Laalach-crime-story-in-hindi.html

No comments